चिराग पासवान के सारे दांव फेल, चाचा पशुपति कुमार पारस खेल कर बन गए लोक जनशक्ति पार्टी के संसदीय दल नेता - The Task News

लोक जनशक्ति पार्टी के नए संसदीय दल नेता को लोकसभा की मंजूरी मिल गई है। इसके अनुसार अब सांसद पशुपति कुमार पारस लोजपा के संसदीय दल के नेता होंगे। इसके बाद अब 6 सांसदों की पार्टी में चिराग पासवान अकेले रह गये हैं. अलग हुए गुट ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मुलाक़ात कर पशुपति पारस को सदन में पार्टी का नेता घोषित करने की मांग की थी…पशुपति पारस ने पार्टी तोड़ने के आरोपों का ख़ारिज किया है. इसके पहले सोमवार सुबह चिराग पासवान चाचा पशुपति पारस से मिलने के लिए उनके आवास भी पहुंचे. लेकिन उनकी मुलाक़ात नहीं हो सकी. चिराग पासवान घर के बाहर काफी देर तक गाड़ी में ही बैठे रहे. एलजेपी से अलग गुट के नेताओं के साथ जेडीयू नेता ललन सिंह, संजय सिंह और माहेश्वरी सिंह ने मुलाक़ात भी की एलजेपी के सांसद महूबब अली ने कहा कि उन्होंने पार्टी नहीं अपना नेता बदला है. लोकसभा अध्यक्ष की मंजूरी के बाद पशुपति कुमार पारस एलजेपी संसदीय दल के नेता बन गए हैं जिनके साथ चौधरी महबूब अली कैसर, वीणा देवी, प्रिंस राज और चंदन सिंह हैं. अब चिराग पासवान को तय करना है कि वे अपने चाचा का नेतृत्व स्वीकारेंगे या अलग रास्ता तय करेंगे