अंतरराष्‍ट्रीय मोर्चे पर चीन को घेरने के लिए अमेरिका ने शुरु किया मोर्चेबंदी, जी-7 सम्मेलन में बंधुआ मजदूरी प्रथा के मुद्दे पर चीन का बहिष्कार करने के लिए दबाव बनाने की योजना तैयार - The Task News

जी-7 शिखर सम्मेलन में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने लोकतांत्रिक देशों पर, बंधुआ मजदूरी प्रथा को लेकर चीन के बहिष्कार का दबाव बनाने की योजना तैयार की है। बाइडेन चाहते हैं कि जी-7 के नेता उइगर मुसलमानों और अन्य जातीय अल्पसंख्यकों से बंधुआ मजदूरी कराने के खिलाफ एक स्वर में आवाज उठाएं. अमेरिका के कुछ मित्र देश चीन के खिलाफ प्रतिस्पर्धा की दिशा में काम करने पर सहमत हुए. बाइडन को उम्मीद है कि बंधुआ मजदूरी को लेकर शिखर सम्मेलन में चीन की आलोचना की जायेगी. लेकिन कुछ यूरोपीय सहयोगी बीजिंग के साथ रिश्ते खराब करने के इच्छुक नहीं हैं।

कनाडा, यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस ने बाडेन का समर्थन किया. जबकि जर्मनी, इटली और यूरोपीय संघ इस पर झिझक रहे हैं. बाइडन ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों से भी बात की। मैक्रों ने कहा कि कई मुद्दों पर साथ मिलकर काम करने की जरूरत है। चीन के पश्चिमी शिनजियांग में करीब 10 लाख या उससे ज्यादा उईगर और अल्पसंख्क पुनर्शिक्षा शिविरों में कैद हैं