जालंधर में कोरोना मृतको के शव जलाने के नाम पर लूट - The Task News

जालंधर में कोरोना की वजह से मरने वालों की संख्या बढ़ने पर श्मशान घाट में अंतिम संस्कार के लिए इस्तेमाल लाई जाने वाली लकड़ी की मांग दोगुना हो गई है, एक अंतिम संस्कार में करीब 3 क्विंटल से 4 क्विंटल लकड़ी का इस्तेमाल होता है, इस हिसाब से पहले जालंधर के बड़े श्मशान घाटों में करीब 20 क्विंटल लकड़ी का इस्तेमाल होता था, जो बढ़कर अब 40 क्विंटल रोजाना के आस-पास हो गया है। किशनपुरा श्मशान घाट के मैनेजर अनिल कुमार के मुताबिक पहले पांच से छह अंतिम संस्कार होते थे लेकिन अब रोज करीब 11 से 12 अंतिम संस्कार किए जा रहे है, लकड़ी की मांग तकरीबन दुगनी हो गई है.