होशंगाबाद में बेटी के सपनों के लिए पिता ने छोड़ दिया अपना काम, कोच बनकर दे रहे हैं बेटी को ट्रेनिंग - The Task News

होशंगाबाद से एक इंस्पायरिंग ख़बर है. जहां पिता ने अपनी बेटी के सपनों को पूरा करने के लिए वकालत छोड़ दी और अब बेटी को दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी बनाने के लिए उसे रोज 8 घंटे की कड़ी ट्रेनिंग करा रहे हैं. अधिवक्ता दीपक तिवारी ने अपनी बेटी आध्या की प्रतिभा को देखते हुए. उसे देश की नंबर वन सॉफ्ट टेनिस खिलाड़ी बनाने का लक्ष्य रखा है. जिसके लिए पिता और बेटी दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. वहीं आध्या भी सॉफ्ट टेनिस में एशियन गेम्स में भारत की प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. आध्या और उनके कोच पिता दीपक तिवारी का सपना देश के लिए ओलंपिक मेडल जीतना है.