कोरोना टेस्टिंग को लेकर ICMR का बड़ा फैसला, टेस्ट कराने के लिए नहीं करनी पड़ेगी मारामारी - The Task News

कोरोना टेस्टिंग को लेकर बेहद राहत देने वाली खबर आई है. अब टेस्टिंग के लोगों को मारामारी नहीं करनी होगी ना ही बाहर जाकर परेशान होना होगा. कोरोना की टेस्टिंग पर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी ICMR ने बुधवार को बड़ा फैसला लिया. इसके इस्तेमाल के लिए नई एडवाइजरी भी जारी कर दी गई.

ICMR ने घर में कोरोना का टेस्ट करने के लिए एक रैपिड एंटीजन टेस्ट किट को मंजूरी दे दी.इस किट के जरिए लोग नाक के जरिए सैंपल लेकर संक्रमण की जांच कर सकेंगे. ICMR की ओर से जारी बयान के मुताबिक, होम टेस्टिंग सिर्फ सिम्प्टोमेटिक मरीजों के लिए है या ऐसे लोग जो लैब में कन्फर्म केस के सीधे संपर्क में आए हों. इसके लिए गूगल प्ले स्टोर और ऐपल स्टोर से ऐप डाउनलोड करना होगा. मोबाइल ऐप के जरिए पॉजिटिव और निगेटिव रिपोर्ट मिलेगी. जो लोग होम टेस्टिंग करेंगे उन्हें टेस्ट strip पिक्चर खींचना पड़ेगा और उसी फोन से तस्वीर लेनी होगी. जिस पर मोबाइल ऐप डाउनलोड होगा. मोबाइल फोन का डाटा सीधे ICMR के टेस्टिंग पोर्टल पर स्टोर हो जाएगा. इस टेस्ट के जरिए जो जिनकी पॉजिटिव रिपोर्ट आएगी, उन्हें पॉजिटिव माना जायेगा और किसी टेस्ट की जरूरत नहीं पड़ेगी. ऐसे मरीज़ों को ICMR और स्वास्थ्य मंत्रालय गाइडलाइन माननी होगी लेकिन लक्षण वाला कोई मरीज़ निगेटिव होगा, तो RT-PCR टेस्ट कराना होगा. ऐसे मरीज़ संदिग्ध केस माने जाएंगे और RT-PCR रिपोर्ट आने तक होम आइसोलेशन में रहेंगे…इस पूरे मामले में मरीज की गोपनीयता बरकरार रहेगी.

होम आइसोलेशन टेस्टिंग किट के लिए Mylab Discovery Solution Ltd. पुणे की कंपनी को ऑथोराइज किया गया है. इस टेस्टिंग किट का नाम CoviSelf (PathoCatch) है. देश में लगातार बढ़ते मामलों के बीच टेस्टिंग एक बड़ी समस्या थी. बार-बार इस बात पर जोर दिया जा रहा है. देश में ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किए जाएं। ऐसे में ये टेस्टिंग किट बेहद कारगार साबित हो सकता है.