पाकिस्तान की सियासत में बड़े बदलाव की स्क्रिप्ट तैयार, पूर्व पीएम नवाज शरीफ की वतन वापसी की अटकलें जोरों पर - The Task News

पाकिस्तान की सियासत में एक बार फिर बड़े बदलाव की स्क्रिप्ट तैयार हो चुकी है। देश के पूर्व पीएम नवाज शरीफ की वतन वापसी की अटकलें जोरों पर है। ऐसे में इमरान खान समेत उनके मंत्रियों की बौखलाहट बढ़ गयी है। कहा तो ये जा रहा है कि इमरान को हटाने के लिए शरीफ परिवार और सेना के बीच डील हो गयी है।

जब से पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के प्रमुख नवाज शरीफ ने मुल्क वापसी के संकेत दिए हैं. इमरान खान की नींद उड़ गयी है. इमरान खान ने तो चुप्पी साध रखी है. लेकिन उनके मंत्रियों ने मोर्चा संभाल लिया है। सिर्फ नवाज शरीफ नहीं बल्कि उनके भाई और बेटी पर भी इमरान के मंत्री हमला कर रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि पाकिस्तान में सेना के समर्थन के बिना किसी का प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बने रहना नामुमकिन है। पाकिस्तानी मीडिया में चल रही खबरों को मानें तो सेना की देश के पूर्व पीएम नवाज शरीफ और उनके भाई शाहबाज शरीफ के साथ बातचीत चल रही है। ये भी मुमकिन है कि इमरान को फरवरी या मार्च तक कुर्सी छोड़ने पर मजबूर किया जाए। इसके बाद नवाज शरीफ प्रधानमंत्री बनाए जा सकते हैं। नवाज शरीफ जनवरी 2022 में मुल्क लौट सकते हैं। जिसके बाद वो कुछ वक्त जेल में गुजारेंगे। सेना और अदालत मिलकर नवाज के केस खत्म कराएंगे जिसके बाद सत्ता में वापसी का उनका रास्ता साफ हो जाएगा।

ऐसा नहीं कि इमरान को खतरे का अंदाजा नहीं. कहा जा रहा है कि पिछले हफ्ते कैबिनेट की मीटिंग में इमरान ने कहा था कि एक भ्रष्ट नेता को देश का प्रधानमंत्री बनाने की तैयारी चल रही है। शायद यही वजह है कि इमरान ने आज राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाई. जिसमें तीनों सेना प्रमुख, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को भी बुलाया गया। एक तरफ नवाज शरीफ ने इमरान के लिए मुश्किलें खड़ी की हैं तो दूसरी तरफ खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्थानीय निकाय चुनाव में हार के बाद पार्टी में भी प्रधानमंत्री के खिलाफ नाराजगी बढ़ी है। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सभी संगठनों को भंग करने, पार्टी महासचिव, प्रांतों के अध्यक्ष बदले जाने के बाद कार्यकर्ताओं खफा हैं। जाहिर है इमरान खान के लिए हर राह पर कांटे बिछे हैं। ऐसे में नवाज शरीफ की मुल्क वापसी की खबरों से उनकी रातों की नींद गायब होना लाजमी है।